कि रोने पर सिर्फ स्त्रियों का अधिकार नहीं – श्रुति कुशवाहा


Notice: Trying to access array offset on value of type bool in /home/u883453746/domains/hindagi.com/public_html/wp-content/plugins/elementor-pro/modules/dynamic-tags/tags/post-featured-image.php on line 36
जितना ज़रूरी धरती के लिये
जितना ज़रूरी जीवन के लिये
उतना ही ज़रूरी है पानी
आँखों के लिये भी
आँख में पानी रहे तो साफ़ दिखती है दुनिया
पानीदार आँखें सहेजती है जीवन की नमी
लेकिन तुमपर तो सदियों से बेपानी रहने का श्राप है

आदमी रोया नहीं करते
ये कितना बड़ा षड्यंत्र है
कितनी कठोर सज़ा
कितना भारी बोझ
तुम्हें हमेशा बताया गया
नदी स्त्रीलिंग है
और इस बहाने बना दिया रेगिस्तान
बंजर आँखों के कारण बाँझ रहा मन
बाँझ मन ने तुम्हें पुरुष के सिवा कुछ न होने दिया

क्या ही अच्छा होता कि रो लेते एक बार
देखते की नदी होना पुरुष होने के विरूध्द नहीं
रोने से पौरुष नहीं खोता
रोना निर्बल होना नहीं होता
रो लेने से सब ख़ाली हो जाता है
भीतर भरे हो तभी तो
बाहर अधिक जगह घेरते हो
तभी तुमने स्त्री को कम जगह दी
रो लेते तो
भीतर तुम्हारे लिये थोड़ी जगह हो जाती
बाहर स्त्री के लिये

ओ पुरुष
मैं तुमसे बेहद प्रेम करती हूँ
इसलिये चाहती हूँ एक बार रो लो
रो लो ताक़ि ज़िंदा होने पर यक़ीन बना रहे
रो लो कि रोने पर सिर्फ स्त्रियों का अधिकार नहीं

Related

दिल्ली

रेलगाड़ी पहुँच चुकी है गंतव्य पर। अप्रत्याशित ट्रैजेडी के साथ खत्म हो चुका है उपन्यास बहुत सारे अपरिचित चेहरे बहुत सारे शोरों में एक शोर एक बहुप्रतिक्षित कदमताल करता वह

अठहत्तर दिन

अठहत्तर दिन तुम्हारे दिल, दिमाग़ और जुबान से नहीं फूटते हिंसा के प्रतिरोध में स्वर क्रोध और शर्मिंदगी ने तुम्हारी हड्डियों को कहीं खोखला तो नहीं कर दिया? काफ़ी होते

गाँव : पुनरावृत्ति की पुनरावृत्ति

गाँव लौटना एक किस्म का बुखार है जो बदलते मौसम के साथ आदतन जीवन भर चढ़ता-उतारता रहता है हमारे पुरखे आए थे यहाँ बसने दक्खिन से जैसे हमें पलायन करने

Comments

What do you think?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

instagram: