anamika anu

लोकतंत्र

खरगोश बाघों को बेचता था फिर अपना पेट भरता था बिके बाघ खरीदारों को खा गये फिर बिकने बाजार में आ गये। anamika-anu

टिकुला

एक जोड़े में दो टिकुला, झरोखे के पास, पेड़ से लटका। मंजर, मिठास, भँवरे मिले, फल लगा, टिकुला हरा। मन में खिजां रस, नज़र बचाकर झुरमुट बीच बढ़ा, अप्रैल की

अफवाह

अफवाह है कि एक बकरी है जो चीर देती है सींग से अपने छाती शेर की। खरगोश बिल में दुबका है, बाघ मांद में डर से, लोमड़ी और गीदड़ नहीं

instagram: